Thursday, 15 September 2016

गीत त्रिकुटबंध करनीजी रो

सहृदय मित्र पुष्पेंद्रसा जुगतावत अर नरपतसा आशिया रै सुझाव माथै आंशिक संशोधन अर थोड़ीक बधोतरी साथै पाछो आप सैणां री निजर-
गीत त्रिकुटबंध करनीजी रो-गिरधरदान रतनू दासोड़ी
दूहो
विघनगारां मुख बाल़जै,मात मिल़ाजै मीत।
पढियो गिरधर प्रीत सूं,गुणी त्रिकुटबँध गीत।।
गीत -त्रिकुटबंध
इल़ा रूप करनल आजरो
हिवां जनम जय हिंगल़ाज रो
इम कोम किनियां करण ऊजल़,मेह रै महमाय।
अवतार करनल आपरो,
सुध भाग रँग सोयाप रो
सोयाप मुरधर रीत सुरधर
उमँग उरधर भाव भर- भर
कोड तर -तर होड कर-कर
गहक धुनिकर गीत घर-घर
सधर सज नर नार सरभर
गुमर हरदिस गहर मनभर
अमर फणधर उरस ऊतर
उछब अवसर रिधू अवतर
पहर खुशियां पाय।।1
जिथ जगराय जूनी जाल़ियां
तण-तण हींड हींडै टाल़ियां
हरियाल़ियां बिच हरस हिवडो ,रमै जणणी रास।
सज सगत झूल़र सोहणा
मँझ उतर मगरै मोहणा
धर कदम पड़पड़ धमक धड़धड
भिल़ी चड़ -चड़ सकल़ भड़ भड़
अरड़    ऊतर   उरड़   ऊमड़
हँसै हड़हड़ खिलै खड़खड़
वडम समवड़ डाव बड़ चड़
खमा खूबड़ अंब आवड़
सदल़ सुघ्घड़ रमै सड़सड़
अनड़  ऊपर गूंज गड़गड
हरस चहुंदिस हास।।2
खलदल़  कटक धर पर खाल़िया
पुनी रीझ  संतजन  पाल़िया
टाल़ियां ज्यांरा विघन तारां,हेर सिर रख हाथ।
कर कोप अरहर कोपणी
घट पटक शूल़ा  घोपणी
जद प्रगट बाघण कान सिर झट
निपट नटखट तणी तणणट
मरट मेटण क्रोध कटकट
झपट नखड़ां मुरड़ झटपट
दुसट दटपट लेस लटपट
फीस फटफट खँड्यो खटखट
चुरड़ चौसठ पियो चटचट
गजब गटगट त्रिपत घट-घट
बहै थिरचक बात।।3
अवनी प्रवाड़ा अणमापरा
उवै सक्कै कुण गिण आपरा
इम रीझ रंकां दैण अवनी,महर कर महिपाल़।
रिड़माल वीकै रीझणी
धुर थाप जंगल कर धणी
गढ छोड गढपत मान मढपत
प्रतख समरथ राखसी पत
साज सतपथ शरण सुधमत
मांड कथ सथ कही महिपत
हर विपत,दे वर बीसहथ
सगत सुण वत किया श्रीपत
थपत जंगल़ पाट थिरपत
भगत भूपत पाव तो प्रत
नमत नित-नित रह्या नरपत
पीढियां प्रतपाल़।।4
दुनी दिपै धज्ज देसांण री
सदा जोड़ धिन्न सुररांण री
बीकांण री वरियांम बसुधा,निमल़ नवखंड नांम।
मढ दरस करनल मात रा
पह सरस कर परभात रा
आ विमल़ बेकल़ बिछी वल़वल
डगर इणपुल़ सजी दल़बल
सगत सहियल़ मिल़ी महियल़
पूग इल़थल़ समल़ परबल़
धार धाबल़ अमल ऊजल़
पाट भलहल़ चीर पल़पल़
हार गल़ बिच हिंडल़ हल़वल़
रमण मनरल़ राय रँगथल़
धरा पावन धांम।।5
वड्ड बीसहथ झल्ल बांहड़ी
छतर धार लोहड़्ड छांहड़ी
मावड़ी निसदिन रखै मरजी,सुणै गरजी साद।
चढ केवियां थट चूरणी
थंभ जँगल़ रिपुदल़ थूरणी
चख लाल कर चढ जैत पख चट
जुड़ी अणथक क्रोध धख झट
भांज लखदल़ लेय भख भट
डक रगत डकडक पियो दट
थरक कमरू अँतक थक थट
छोड बख निज भगो फक छट
महि अरक तक जँगल़ रख मट
रसा जस धज फरक रजवट
मँडी मा मरजाद।।6
जद-जद डरूं संकट जांमणी
सद सुरराय तूं मो सांमणी
थांमणी अँगुल़ी राय थल़वट ,भाल़ करणी भीर।
हित करण,आफत हारणी
चढ खड़ै नाहर चारणी
चढ मदत चारण हांण हारण
भांय भारण आ उतारण
तरण तारण इम उबारण
कुबुद्ध टारण सुबुद्ध कारण
दे उचारण डर विदारण
धरम धारण मन मँझारण
बण उद्धारण ऐण बारण
सकज सारण पथ सुधारण
धरै गिरधर धीर।।5
दूहो
काला आखर करनला,
मन व्हाला कर माय!
गीत कयो कवि गीधियै,
सुण रीझै सुरराय।।
गिरधरदान रतनू दासोड़ी