Wednesday, 31 August 2016

जुद्ध

जुद्ध-

गिरधरदान रतनू दासोड़ी
इतरा आकरा मत पड़ो
जुद्ध रै सारु
बेटी रै बापां!
क्यूं कसो हो जीण
किणी नै तीण -तीण करण नै
क्यूं बजावो हो बीण
छेड़ण नैं नाग नुगरां नैं
डसण सारु
मत बतावो मारग
आपां नीं जाणां हां मंत्र
उणरो
जहर कब्जै में करण रो।
क्यूं मारो हो
किणी नैं बेमोत
जुद्ध रै भय सूं
क्यूं रचो हो?
जुद्ध रा जंजाल़ -जाल़
पंपाल़ मत करो
मत तोड़ो पांपल़ा
वश में करण रा
किणी नै मारण सूं पैला
मरणो पड़ै है
जुद्ध रै कई मोरचां माथै!
सोचो तो खरी
बेलियां !
एकर जुद्ध रा चितराम म़ाड र
देखो तो खरी
धरा रा चितराम
टाबरियां रै बिखरियै घरकोलियां नै
रमतियां नै
किसड़ाक दीखै है?
जुद्ध रै आंगण सूं
कोरो तो खरी
एक र जुद्ध नीवड़ियां
पछै रा मांडणा
इण रूपाल़ी धरती रो रूप
किसड़ोक लागै है
मनभावणो !!
करज्यो मती
धरा नै इतरी विडरूप
आपरै हाथां सूं।
जिणनै देखतां
आपरी आंख्यां
लाजां मरै जावै
अर
डर जावै
आपांरी आत्मा
जुद्ध रै रचाव सूं
राखज्यो इतरो खटाव
कै
छेहली सांस तक
मत छेड़ज्यो
राग जुद्ध री निरभागणी!
गिरधरदान रतनू दासोड़ी