Monday, 1 October 2018

जंगी गढ जोधांण

जंगी गढ जोधांण-- मोहनसिंह रतनू

जयपुर कदेन जावणो,
अंबु हवा असुद्व।
प्राय वाहन गिरपडै,
राह करे अवरूद्व।।1

बारीश में कोटा बुरो,
दिन रूकणो नह दोय।
माखी माछर मांदगी,
हर च्यारुं दिस होय।।२

सरदी में आबू शिखर,
भूल कदे मत भेट।
काया धूजै कांपती,
लेवे  ठंड लपेट।।३

मझ गरमी रै मांयनै, चुरू उपाडे चांम।
चिलबलती लूंवां चले,
हुवे नींद हराम।।४

क्यूं काला दर दर भमे,
फिर मत व्यग्र फजूल।
जगां सुहाणी जोधपुर,
आब हवा अनुकूल।।५

आडो रह्यो अजीत रै,
दिलसुध दुरगा दास।
जीवण भर रण जूंझियो,
अमर हुओ इतिहास।।६

विटप रूखाल़ण वासतै,
पिण्ड दिया तज प्राण।
अगवाणी री अमरता,
जाहर हुइ जोधांण।।७

मधुर संभासण,
मोटमन,
अंतस घण अपणास।
जी कारो हर जीब पे,
खूबी जोधपुर खास।।८

बंध कोट ओपे बदन,
कमर बद्व करपाण।
पाग अनुपम्म जोधपुर,
पूरे जग पहचांण।।९

जौध बसायो जोधपुर,
नवखंड करियो नाम।
दी कुरबाणी देह री,
रंग हो राजा राम।।१०

जग में चावो जोधपुर,
भल चमकंतो भाण।
अड़ियो जाय अकास सूं,
जंगी गढ जोधांण।।११

इमली,लूंग,इलाइची,
अठे न निपजै आम।
सिर देवण रण सूरमां,
बैठा गामो गाम।।१२

बोर मतीरा बाजरी,
कूमटिया अरु कैर।
राजी व्हे सुर राज तो,
लागे लावा लैर।।१३

वसुधा देश विदेश मे,
करे शाह सब काम।
आज इल़ा पर अग्र है,
नग्र जोधपुर नाम।।१४
 
जोधपुर  रै नांम चंद ओल़ियां
रचयिता-मोहन सिंह रतनू से नि आर पी एस माँ भगवती नगर,बाल समंद रोड़, जोधपुर
आदरणीय मोहनसा रै दूहां री सम्मति में चंद दूहा-
बंको बीकानेर-गिरधरदान रतनू दासोड़ी
मुरधर रो जस मंडियो,
चारण मोहन चाव।
अलंकार उकती अनुप,
भर उर आदर भाव।।1

जाहर गढ जोधाण री,
पंगी समँदां पार।
आज सुरंगी की अवस,
विध विध कर विस्तार।।2

सहर बीजा तो सांप्रत,
है नीं समवड़ हेर।
जग समवड़ जोधाण रै,
(ओ तो) बंको बीकानेर।।4

धर धिन धोरा धोल़िया,
समवड़ जिकै सुमेर।
संत सती वड सूरमा,
बो'ल़ा बीकानेर।।5

जग जणणी राजै जठै,
किनियांणी करनल्ल।
उत रिड़मल जोधो अवस,
हिव पूगा धर हल्ल।।6

महि कानै नै मारियो,
मुदै तजत मरजाद।
जो करनी राजै जठै,
सुणण सेवगां साद।।7

बदरी अन केदार वड,
जाण पुरी जगन्नाथ।
इल़ देसाणै आय इम,
पेख दास फल़ पात।।8

ओरण हरियाल़ी अवन,
जग बदरी सम जाण।
जगत सगत री जातरा,
देख करै देसाण।।9

कमरै रा कंध भँगिया,
जैतराव धर जेथ।
मुगल़ बीह उण मुलक में,
अवर न पूगा ऐथ।।10

राती-घाटी राठवड़
भिड़ियो जैतो भट्ट।
हल्दीघाटी री हिव जनक,
रही  जँगल़ रजवट्ट।।11
धर राखी राख्यो धरम,
विमल़ हिंदवां वेस।
जा'झ कँवाड़ां झूड़िए,
कमध जेथ करनेस।।12

जंभेसर जोगी जठै,
महि धिन तप्यो मुकांम।
जाहर जिणरो जोयलो,
धर समराथल़ धांम।।13

जस जोवो जसनाथ रो,
भुइ सारी इण भेर।
अगन-निरत चावो अवस,
बसुधा बीकानेर।।14

जाहर गढ जोधांण रो,
हाड अकूणी हेर।
सदा निशंको सांप्रत,
बंको बीकानेर।।

Thursday, 12 July 2018

नारियल वदारियो

अमेरिका का Aeroplane ब्लास्ट हुआ:

जापान: टेक्नोलॉजी परीक्षण किये थे ?
अमेरिका: yes

रशिया: क्रिटिकल मास वॉल्यूम ठीक था ?
अमेरिका: yes

ब्रिटेन: ऑपरेटिंग मोड सिस्टम चेक किया था ?
अमेरिका: yes

भारत:   बावजी के नारियल वदारियो...?

अमेरिका : No...!

भारत:    ले............ अटे भूल वेगी नी !!!!!

Monday, 9 July 2018

त्रिपोलिया मायने

एक बार अमेरीका में एक विमान खराब मौसम के चलते गोते खाने लगा l

विमान के पायलट ने अपना सारा अनुभव और कौशल लगा के पहाड़ों के बीच से बचते बचाते आड़े तिरछे कट मार के विमान को बचा कर एअरपोर्ट पे ले आया l

उसका सत्कार किया गया और पुछा गया की ऐसा talent और अनुभव उसने कहा और कैसे प्राप्त किया..??

*कसम से आंखों मे खुशी के आंसू आ गये* जब वह बोला...









पहला जोधपुर रा त्रिपोलिया मायने टेक्सी चलावतो सा..!

Sunday, 17 June 2018

मारवाड़ी मिनट आँधी अकाल जमाने आदी हैं

*मारवाड़ी बातां*

मारवाड़ी मिनट आँधी अकाल जमाने आदी हैं, 

यदि रोहिणी नक्षत्र में गर्मी अधिक हो तथा मृग नक्षत्र में आंधी जोरदार चले, तो आर्द्रा नक्षत्र के लगते ही बादलों की गरज के साथ वर्षा होने की संभावना बन सकती है।

रोहण तपै, मिरग बाजै तो आदर अणचिंत्या गाजै।

एक दोहे में अकाल के लक्षणों का चित्रण इस प्रकार किया गया है :-

मिरगा बाव न बाजियौ, रोहण तपी न जेठ।
क्यूं बांधौ थे झूंपड़ौ, बैठो बड़ले हेठ।।

आर्द्रा नक्षत्र के प्रारंभ में यदि बारिश के छींटे हो जाएँ, तो शुभ माने जाते हैं और जल्दी ही बरसात होने की आशा बंधती है।

पहलों आदर टपूकड़ौ मासां पखां मेह।

यदि आर्द्रा नक्षत्र में आँधी चलनी शुरु हो जाये, तो अकाल का जोखिम न आने लगता है।

आदर पड़िया बाव, झूंपड़ झौला खाय।

यदि चौदह नक्षत्रों में दो- दो दिन के हिसाब से हवा नहीं चले, तो क्या- क्या होगा, इस विषय में निम्नलिखित छंद कहा गया है :-

दोए मूसा, दोए कातरा, दोए तिड्डी, दोए ताव।
दोयां रा बादी जळ हरै, दोए बिसर, दोए बाव।।
रोहिनी बरसै मृग तपै, कुछ कुछ अद्रा जाय।
कहै घाघ सुने घाघिनी, स्वान भात नहीं खाय।।

यदि रोहिणी बरसे, मृगशिरा तपै और आर्द्रा में साधारण वर्षा हो जाए तो धान की पैदावार इतनी अच्छी होगी कि कुत्ते भी भात खाने से ऊब जाएंगे और नहीं खाएंगे।

सर्व तपै जो रोहिनी, सर्व तपै जो मूर।
परिवा तपै जो जेठ की, उपजै सातो तूर।।

    *संकलन~ राजेन्द्र सिंह कुरडायाँ*

Sunday, 27 May 2018

फलका खाणां


फलका खाणां सोरा है पणं आटो ल्याणों दोरो है ।
भक्ति करणीं सोरी है पणं नेम निभाणों दोरो है ।
जीमणं जाणों सोरो है पणं घरां जिमाणों दोरो है ।
फूट घालणीं सोरी है पणं मेल कराणों दोरो है ।
धान ल्यावणों सोरो है पणं रांध खावणों दोरो है ।
चोरी करणीं सोरी है पणं जेल जावणों दोरो है ।
झगडो करणों सोरो है पणं मार खावणों दोरो है ।
धंधो करणों सोरो है पणं नफो कमाणों दोरो है ।
झूठ बोलणों सोरो है पणं साच केवणों दोरो है ।
निंदा करणीं सोरी है पणं मान देवणों दोरो है ।
मौज मनाणीं सोरी है पणं कमा खावणों दोरो है ।
डूब ज्यावणों सोरो है पणं पार जावणों दोरो है ।
गुस्सो करणों सोरो है पणं गम खा ज्याणों दोरो है ।
मांग खावणों सोरो है पणं घर घर जाणों दोरो है ।
बातां करणीं सोरी  है पणं बात निभाणीं दोरी है ।
सिलकाणीं तो सोरी है पणं लाय बुझाणीं दोरी है ।
बालपणां में पडे आदतां पछे सुधरणीं दोरी है ।
गंजो माथो बुरो नहीं पणं खाज कुचरणीं दोरी है ।
ठोकर खाणीं सोरी है पणं बुद्दि आणीं दोरी है ।
अंगरेजी पढ ज्याणें है पणं हिंदी आणीं दोरी है ।
मीठो खाणों सोरो है पणं जेर पीवणों दोरो है ।
खोटा धंधा सोरा है पणं पछे जीवणों दोरो है ।
गुरु बणाणों सोरो है पणं ग्यान आवणों दोरो है ।
तिवाडी लेणों सोरो पणं पाछो देणों दोरो है ।
           
        

Thursday, 24 May 2018

मरण सारथक मांन।।

सेवा देश समाज हित,
ज्यां मर करी जहांन।
ज्यांरो ई इण जगत में,
मरण सारथक मांन।।1

माता जिम ही मातभू,
ज्यां मन दीधी जांन।
अमर आज इल़ ऊपरै,
मरद जिकै ई मांन।।2

जिण माटी उपज्या जिकै,
उण रो खाधो अन्न।
उण हित वां तो आपरो,
तिल तिल समप्यो तन्न।।3

मात -धरा मोटी मनी,
दिल निज छोटी देह।
ऊ सब चोटी ऊपरै,
लाख मुखां जस लेह।।4

मन वंदे कर मातरम,
जिकै गया फँद झूल।
जिंदो राख जमीर नै,
भावै ई मत भूल!!5

डर तज वां देश हित,
झट ली फासी झेल।
जात-पांत सबसूं जिकै,
ऊपर नर अजरेल।।6

बेड़ी काटण वतन री,
बदन कियो बलिदान।
वांरो निसदिन बांचणो,
गौरव हंदो गान।।7

श्रद्धा बढै मन सिमरियां,
सुजस सूरां रो सत्त।
विमल़ हुवै वाणी वल़ै,
कथियां कीरत कत्थ।।8
मूरत परसां साच मन,
सूरत चखां सपेख।
सुजस पढां वां सूरमां,
अघ नीं रैवै एक।।9

भिड़ रण भारथ में भलां,
अरियण दिया उथाल।
मगर- अगर बिन मानजो,
लख सत भारत- लाल!!10
अमर शहीद प्रतापसिंह बारहठ नै उणांरै  शहादत दिवस माथै सश्रद्ध नमन।
गिरधरदान रतनू दासोड़ी

राणीसर री कहोणी

जोधपुर री बात - राणीसर री कहोणी

जोधपुर रा जन्मा जाया, जोधपुर में  शहर में रेवनवाला हारा लोग रानीसर तालाब ने जाणे है| सब लोग राणीसर रे ओटे रा आनंद ले चुकिया है | जोधपुर में फ़तेहपोल, चाँदबावड़ी, गुन्दी रे मोहल्ले,नव्चोकिया रा रेवन वालो ने ध्योंन है के जिन टेम घनो मेह पड़े जरे ओ राणीसर रो ओटो कित्तो खतरनाक हूजा  इने बाले रे कारण घर उ निकलनो मुश्किल हज़ा| मै तो खुद भुगतभोगी हु एक बार टाबरपने में चाँदबावड़ी उ पग फिसलियो ने शान्तिलालजी री दूकान माथे उबा लोग मने पकड़ ने बारे खिंचियो| राणीसर और पदमसर रे ओटे रे बारे में पुराणी कहावत है के " राणीसर पदम्सर हुयग्या ओटे| .....व्यापारी हारा हुयग्या टोटे||

अबे आज बात आ चाली है के रानीसर और पदमसर  रा तालाब कुण बनवाया? ने क्यू बनवाया? आप सब ने आ तो ध्योंन वेला इज के मेहरानगढ़ रो किल्लो राव जोधाजी बनवायो| पैली वे किल्लो मसुरिया भाकर माथे बनावन वाला हा पर ऊठे पानी री किल्लत ही इन वास्ते वे किल्लो एक साधू रे केवन माथे इन चिड़ियाटुंक या जिन्हें आपो पचेटिया भाकर भी केवा, माथे बनायो| केवे के इन भाकर  माथे  एक सिद्ध योगी चिड़ियानाथ जी रो धुनों ने एक कुटिया ही| जिन टेम किल्ले री कोट बनावन वास्ते सैनिक चिड़ियानाथ जी ऊठे उ आपरी कुटिया हटावन वास्ते क्यों तो वे ना दे दियो ने सैनिक जिन टाइम जोर जबरदस्ती करी तो चिड़ियानाथ जी कुपित हु ने श्राप दियो के इन किल्ले में रेवन वालो राजा हमेशा परेशान रेवेला ने किल्ले में रेवन वाला पाणी रे वास्ते तिरसो मरेला ...वो रे ओ केव्ते ही उठे भाकर में बेवन वाली पानी री धार बंद हुई गी...पछे बाद में राजा चिड़ियानाथ जी ने मनावन वास्ते घणी मान मनौवल करी ने व्हारे वास्ते एक आश्रम भी बनवा ने दियो जरे जा ने चिड़ियानाथ जी रो गुस्सो शांत हुयो ने वे खद रे श्राप रो तोड़ बतायो ...........पर बात की भी वे असल बात तो आ ही के इन भाकर माथे भी पाणी रो टोटो हो जरे किल्ले रे काम शुरू हवते ही राव जोधा जी री महाराणी जसमादे  किल्ले रे पाक्ति निचे रानीसर तालाब बन्वाव्नो शुरू कर दियो| उन टाइम इने बनावन वास्ते वे पंचोली सदासुख झाबरिया ने 20251 रुपिया दिया| बाद में विक्रम संवत 1612 में राव मालदेवजी जिन टेम जोधपुर शहर ने किल्ले रा कोट बनवाया उन्हीज टाइम वे राणीसर तालाब रो कोट ने ओ मोटो ज्यू  पोल वालो आडो बनवायो| रानीसर तलाब में पोंच बेरियो है जीमे सकरबेरी, जीयाबेरी,पाट बेरी फेमस है| रानी सर माथे मोटो ज्यू अरहट है जाटे हु की जबरा तैराक तो घंटा बिड ले ...इन अरहट उ पानी चोखेलाव रे महलो में जावतो पछे ऊठे उ इमरती पोल ने ऊठे उ महलो में जावतो| कई सिस्टम हो ? न बीजली न कोई मोटर ...बस हाथो रो कमाल हो कोरो |
अबे बात करोला पदमसर तलाब री इन्हें कुन बनायो इन बारे में थोड़ो कान्फुजन है पर जादातर लोग आ इज मोने के इन्हें राव जोधाजी रो बेटो राव गांगा री राणी करवायो हो | पर किसी रानी करवायो इमे भेर झोड़ है कोई केवे के राणी पद्मावती करवायो जीकी मेवाड़ रे राणा सांगा री बेटी ही ..कोई केवे के देवडी रानीजी 1520 में करवायो|  कोई केवे के इन तलाब ने भी रावजोधाजी री महारानी इज करवायो कोई केवे है की इन तलाब ने पदमा सेठ बनवायो जीको सेठ महाचंद रो बेटो हो| .........
पेली दोई तलाब रो पाणी खाली राजमहल रा लोग ही आप्रे कोम में ले सकता हा पर बाद में महारा तखतसिंह जी रे टेम में संवत उगनिस सौ पंद्रह में आखातीज रे दिन दोई तलाब आमजनता रे वास्ते खोल दिया|
इत्ती कहोणी गोगाराणी ने जीको नई मोने उनी हासू कोणी :)

Kind Sharing from Shri Sharad Vyas

Saturday, 16 September 2017

राजपूती दोहे ( - ठा फ़तह सिंह जसौल)

राजपूती दोहे

( - ठा फ़तह सिंह जसौल)

•» ” दो दो मेला नित भरे, पूजे दो दो थोर॥
सर कटियो जिण थोर पर, धड जुझ्यो जिण थोर॥ ”

मतलब :-

•» एक राजपूत की समाधी पे दो दो जगह मेले लगते है,
पहला जहाँ उसका सर कटा था और दूसरा जहाँ उसका धड लड़ते हुए गिरा था….

वसुन्धरा वीरा रि वधु , वीर तीको ही बिन्द |
रण खेती राजपूत रि , वीर न भूले बाल ||

अथार्थ
धरती वीरों की वधु होती है और युद्ध क्षत्रिय का व्यवसाय |

राजा वह था नहीं , एक साधारण सा राजपूत था !
राजाओं के मस्तक झुक जाते थे , ऐसा वो सपूत था !

दारु मीठी दाख री, सूरां मीठी शिकार।
सेजां मीठी कामिणी, तो रण मीठी तलवार।।

बिण ढाला बांको लड़े,
सुणी ज घर-घर वाह |
सिर भेज्यौ धण साथ में,
निरखण हाथां नांह ||९७||

युद्ध में वीर बिना ढाल के ही लड़ रहा है | जिसकी घर-घर में प्रशंसा हो रही है | वीर की पत्नी ने युद्ध…
में अपने पति के हाथ (पराक्रम) देखने के लिए अपना सिर साथ भेज दिया है |(उदहारण-हाड़ी रानी )|

मूंजी इण धर मोकला,
दानी अण घण तोल |
अरियां धर देवै नहीं,
सिर देवै बिन मोल ||९८||

इस धरा में ऐसे कंजूस बहुत है जो दुश्मन को अपनी धरती किसी कीमत पर नहीं देते व ऐसे दानी भी अनगिनत है जो बिना किसी प्रतिकार के अपना मस्तक युद्ध-क्षेत्र में दान दे देते है |

तलवार से कडके बिजली,
लहु से लाल हो धरती,
प्रभु ऐसा वर दो मोहि,
विजय मिले या वीरगति ॥

मंजूर घास की रोटी है घर चाहे नदी पहाड़ रहे…अंतिम साँस तक चाहूँगा स्वाधीन मेरा मेवाड़ रहे.
.महाराणा प्रताप

“हम मृतयु वरन करने वाले जबजब हथियार उठाते हैं
तब पानी से नहीं शोनीत से अपनी प्यास बुझाते हैं
हम राजपूत वीरो का जब सोया अभिमान जIगता हैं
तब महाकाल भी चरणों पे प्राणों की भीख मांगता ह..

वो कौमे खुशनसीब होती है; जिनका इतिहास होता है!
वो कौमे बदनसीब होती है; जिनका इतिहास नहीं होता है!
और वो कौमे सबसे ज्यादा बदनसीब होती है; जिनका इतिहास भी होता है लेकिन वो इतिहास से सबक नहीं लेती”

जो क्षति से समाज की रक्षा करे वो ही सच्चा क्षत्रिय है ।  राजपूतों को बार-बार इतिहास की याद दिलाते रहना चाहिए जिससे देश धर्म एवं स्वाभिमान बचा रहे

Friday, 15 September 2017

भूलग्या

भूलग्या
-----------
कंप्यूटर रो आयो जमानो कलम चलाणीं भूलग्या।
मोबाईल में नंबर रेग्या लोग ठिकाणां भूलग्या।

धोती पगडी पाग भूलग्या मूंछ्यां ऊपर ताव भूलग्या।
शहर आयकर गांव भूलग्या बडेरां रा नांव भूलग्या ।

हेलो केवे हाथ मिलावे रामासामा भूलग्या।
गधा राग में गावणं लाग्या सा रे गा मा भूलग्या ।

बोतल ल्याणीं याद रेयगी दाणां ल्याणां भूलग्या ।
होटलां रो चस्को लाग्यो घर रा खाणां भूलग्या ।

*बे टिचकारा भूलगी ऐ खंखारा भूलग्या ।*
*लुगायां पर रोब जमाणां मरद बिचारा भूलग्या ।*

जवानी रा जोश मांयनें बुढापा नें भूलग्या ।
*हम दो हमारे दो मा बापां ने भूलग्या ।*

संस्क्रति नें भूलग्या खुद री भाषा भूलग्या ।
लोकगीतां री रागां भूल्या खेल तमाशा भूलग्या ।

घर आयां ने करे वेलकम खम्मा खम्मा भूलग्या ।
भजन मंडल्यां भाडा की जागण जम्मा भूलग्या ।

बिना मतलब बात करे नीं रिश्ता नाता भूलग्या ।
गाय बेचकर गंडक ल्यावे खुद री जातां भूलग्या ।

कांण कायदा भूलग्या लाज शरम नें भूलग्या ।
खाणं पांण पेराणं भूलग्या नेम धरम नें भूलग्या ।

घर री खेती भूलग्या घर रा धीणां भूलग्या ।
नुवां नुंवां शौक पालकर सुख सुं जीणां भूलग्या ।

Tuesday, 12 September 2017

Confidence of a Rajasthani

Confidence of a Rajasthani.

राजस्थान के कुछ लोगों   की मीटिंग हुई।
.
.
.
.
मुद्दा था स्वतंत्रता संग्राम !!
.
.
.
.
समस्या ये थी कि राजस्थान  को भारत से आज़ाद कैसे कराया जाए ।
.
.
1 राजस्थानी  : आज़ाद कराणा कुणसा,
  मुसकिल काम हैं ?

पर हम राजस्थान  का विकास कियां कराला?
सोचबां आली बात आ हैं?
.
.
.
.
2राजस्थानी: एक काम करां आपां तो,आपां सगळां जणा  मिलर अमरीका पर हमला कर देवांला!!
.
.
.
.
3 राजस्थानी: हां रे भाया ?

अमरीका पर हमलो
करबां सूं काईं होवेलो ??
.
.
.
.
.
.
: रै भाई  !! जियाँ ही आपां  हमलो कराला,
अमरिका आपां ने  हरा दे लो।
और आपणा राज्य पर कब्ज़ा कर ले लो?

फ़ेर कायदा सूं आपां लोग अमरिका का ही नागरिक बण जावेला।
बो   खुदको विकास तो  करतो ही रहवे है.. !!
.
.आपणो भी सागे-सागे हो जावेलो?

.
.
4 राजस्थानी :वाह भाया
फ़ेर तो न  वीजा न पासपोर्ट !

आपणा सब रुपैया डालर बण जावेला।
छोरा अंग्रेजी बोलेला।

खुणा में बेठो नाथयो  चुपचाप हो? "

हां रे!!--- नाथया तु काईं नी बोले रे?"
.
.
.
.
.
.
.
नाथयो : "रै! भाया  मै यूं सोचू  सू कि,

हमला में जो गलती सूं आपां  जीतग्या तो अमरिका को काईं होवेलो?"

जोधपुर माते भरोसो

*सोनू सोनू थने जोधपुर माते भरोसो कुनि कई ?*

*मिश्रीमल री लस्सी है माखनिया, मिल ने पिवे सखी - साथणीया ।*
*लषन रो कोफ़्तों है गोल गो ल, जालोरी गेट तू मारे सुं मिठो बोल ।।*

*सूर्या रो मिर्चीबड़ो है तीखो, चतुर्भुज रो मावो है फीको ।*
*राम रो डोसो है गोल गोल, नावचोकीये री हथाई में तू* *मीठो बोल ।।*

*त्रिपोलिया री भीड़ है तगड़ी, जोधपुर री शान है पगड़ी*
*चतुर्भुज रो गुलाब जामुन है गोल गोल, टुरिया तू मारे सुं* *मीठो बोल ।।*

*शास्त्री नगर रा घर है मोटा , जोधपुर रा ट्राफिक है खोटा*
*भवानी रा दाल बाटा है गोल गोल , आशाराम बापू तू मारे* *सुं मीठो बोल*

*जोधपुर रो किलो है उँचों, रजवाड़ों री तगड़ी है मूंछों*
*नैवेद्यम रो चक्कर बड़ो है गोल गोल, शानदार तू मारे सुं* *मीठो बोल*

*सोनू थने जोधपुर माते भरोसो कुनि कई **

गल़ी -गल़ी गल़गल़ी क्यूं छै!-

गल़ी -गल़ी गल़गल़ी क्यूं छै!-

गिरधरदान रतनू दासोड़ी

आ गल़ी -गल़ी गल़गल़ी क्यूं छै!
तीसरी पीढी खल़ी क्यूं छै!!

ऊपर  सूं शालीन  उणियारो!
लागर्यो हर मिनख छल़ी क्यूं छै!!

काल तक गल़बाथियां बैती।
वे टोलियां आज टल़ी क्यूं छै!!
रीस ही आ रूंखड़ां माथै!
तो मसल़ीजगी जद कल़ी क्यूं छै!!

नीं देवणो सहारो तो छौ!
पण तोड़दी आ नल़ी क्यूं छै!!

काम  काढणो तो निजोरो छै!
कढ्यां उर आपरै  आ सिल़ी क्यूं छै!!

धरम री ओट में  आ खोट पसरी!
धूरतां री जमातां इम पल़ी क्यूं छै!!

बाढणा पींपल़ अर नींबड़ां नै!
तो बांबल़ां री झंगी आ फल़ी क्यूं छै!!

कदै आ आप सोचोला !कै
भांग यूं कुए में भिल़ी क्यूं छै!!

Tuesday, 5 September 2017

प्रीतम घरां पधार ....

प्रीतम घरां पधार ....

Ratan singh champawat:

चटक चंचला चाँदनी  धवल रूप रस धार
कंत उडीकै कामणी   प्रीतम घरां पधार

कंचन वरणी कामिनी   रो़य रोय रतनार
विरह रोग विपदा विविध  प्रीतम घरां पधार

सेजां नीं है सायबो   सूनो सब सँसार
आप बिना हूँ अेकली  प्रीतम घरां पधार

जड़ चेतन जंगम जबर.  जीवा जूण जुग सार
सायब बिन सूना सकल   प्रीतम घरां पधार

आप तणों अवलम्ब है   आतम रूप आधार
निज रूप निराकार व्है   प्रीतम घरां  पधार

प्रीतम प्रीत प्रभाव प्रण   प्रीत प्रबल प्रहार
प्रीत रीत पहचान पुनि   प्रीतम घरां  पधार

दैवरूप दुनियांण दर   दरस देय दातार
प्रीत पुरातन पाळ पण.  प्रीतम घरां पधार

अवल अलख आराधना  अमित अनंत अपार
आखर आखर अवतरों   प्रीतम आप पधार

©®@ रतन सिंह चाँपावत रणसी गांव कृत

Thursday, 31 August 2017

लोकदेवता तेजाजी

आइये जाने की कौन थे तेजाजी..???—

तेजाजी राजस्थान, मध्यप्रदेश और गुजरात प्रान्तों में लोकदेवता के रूप में पूजे जाते हैं। किसान वर्ग अपनी खेती की खुशहाली के लिये तेजाजी को पूजता है। तेजाजी के वंशज मध्यभारत के खिलचीपुर से आकर मारवाड़ मे बसे थे। नागवंश के धवलराव अर्थात धौलाराव के नाम पर धौल्या गौत्र शुरू हुआ। तेजाजी के बुजुर्ग उदयराज ने खड़नाल पर कब्जा कर अपनी राजधानी बनाया। खड़नाल परगने में 24 गांव थे।
तेजाजी ने ग्यारवीं शदी में गायों की डाकुओं से रक्षा करने में अपने प्राण दांव पर लगा दिये थे। वे खड़नाल गाँव के निवासी थे। भादो शुक्ला दशमी को तेजाजी का पूजन होता है। तेजाजी का भारत के जाटों में महत्वपूर्ण स्थान है।

तेजाजी सत्यवादी और दिये हुये वचन पर अटल थे। उन्होंने अपने आत्म – बलिदान तथा सदाचारी जीवन से अमरत्व प्राप्त किया था। उन्होंने अपने धार्मिक विचारों से जनसाधारण को सद्मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित किया और जनसेवा के कारण निष्ठा अर्जित की। जात –प पांत की बुराइयों पर रोक लगाई। शुद्रों को मंदिरों में प्रवेश दिलाया। पुरोहितों के आडंबरों का विरोध किया। तेजाजी के मंदिरों में निम्न वर्गों के लोग पुजारी का काम करते हैं। समाज सुधार का इतना पुराना कोई और उदाहरण नहीं है। उन्होंने जनसाधारण के हृदय में हिन्दू धर्म के प्रति लुप्त विश्वास को पुन: जागृत किया। इस प्रकार तेजाजी ने अपने सद्कार्यों एवं प्रवचनों से जन – साधारण में नवचेतना जागृत की, लोगों की जात – पांत में आस्था कम हो गई।

*लोक देवता तेजाजी का जन्म एवं परिचय–*

लोक देवता तेजाजी का जन्म नागौर जिले में खड़नाल गाँव में ताहरजी (थिरराज) और रामकुंवरी के घर माघ शुक्ला, चौदस संवत 1130 यथा 29 जनवरी 1074 को जाट परिवार में हुआ था। उनके पिता गाँव के मुखिया थे। 

तेजाजी का जन्म धौलिया या धौल्या गौत्र के जाट परिवार में हुआ।

*धौल्या शासकों की वंशावली इस प्रकार है:-*

1.महारावल 2.भौमसेन 3.पीलपंजर 4.सारंगदेव 5.शक्तिपाल 6.रायपाल 7.धवलपाल 8.नयनपाल 9.घर्षणपाल 10.तक्कपाल 11.मूलसेन 12.रतनसेन 13.शुण्डल 14.कुण्डल 15.पिप्पल 16.उदयराज 17.नरपाल 18.कामराज 19.बोहितराव 20.ताहड़देव 21.तेजाजी

यह कथा है कि तेजाजी का विवाह बचपन में ही पनेर गाँव में रायमल्जी की पुत्री पेमल के साथ हो गया था किन्तु शादी के कुछ ही समय बाद उनके पिता और पेमल के मामा में कहासुनी हो गयी और तलवार चल गई जिसमें पेमल के मामा की मौत हो गई। इस कारण उनके विवाह की बात को उन्हें बताया नहीं गया था। एक बार तेजाजी को उनकी भाभी ने तानों के रूप में यह बात उनसे कह दी तब तानो से त्रस्त होकर अपनी पत्नी पेमल को लेने के लिए घोड़ी ‘लीलण’ पर सवार होकर अपनी ससुराल पनेर गए।

रास्ते में तेजाजी को एक साँप आग में जलता हुआ मिला तो उन्होंने उस साँप को बचा लिया किन्तु वह साँप जोड़े के बिछुड़ जाने कारण अत्यधिक क्रोधित हुआ और उन्हें डसने लगा तब उन्होंने साँप को लौटते समय डस लेने का वचन दिया और ससुराल की ओर आगे बढ़े। वहाँ किसी अज्ञानता के कारण ससुराल पक्ष से उनकी अवज्ञा हो गई। नाराज तेजाजी वहाँ से वापस लौटने लगे तब पेमल से उनकी प्रथम भेंट उसकी सहेली लाछा गूजरी के यहाँ हुई। उसी रात लाछा गूजरी की गाएं मेर के मीणा चुरा ले गए। लाछा की प्रार्थना पर वचनबद्ध हो कर तेजाजी ने मीणा लुटेरों से संघर्ष कर गाएं छुड़ाई। 

 
इस गौरक्षा युद्ध में तेजाजी अत्यधिक घायल हो गए। वापस आने पर वचन की पालना में साँप के बिल पर आए तथा पूरे शरीर पर घाव होने के कारण जीभ पर साँप से कटवाया। किशनगढ़ के पास सुरसरा में सर्पदंश से उनकी मृत्यु भाद्रपद शुक्ल 10 संवत 1160, तदनुसार 28 अगस्त 1103 हो गई तथा पेमल ने भी उनके साथ जान दे दी। उस साँप ने उनकी वचनबद्धता से प्रसन्न हो कर उन्हें वरदान दिया। इसी वरदान के कारण गोगाजी की तरह तेजाजी भी साँपों के देवता के रूप में पूज्य हुए। गाँव गाँव में तेजाजी के देवरे या थान में उनकी तलवारधारी अश्वारोही मूर्ति के साथ नाग देवता की मूर्ति भी होती है। इन देवरो में साँप के काटने पर जहर चूस कर निकाला जाता है तथा तेजाजी की तांत बाँधी जाती है। 
 

तेजाजी के निर्वाण दिवस भाद्रपद शुक्ल दशमी को प्रतिवर्ष तेजादशमी के रूप में मनाया जाता है। लोग व्रत रखते हैं। नागौर जिले के परबतसर में प्रतिवर्ष भाद्रपद शुक्ल 10 (तेजा दशमी) से पूर्णिमा तक तेजाजी के विशाल पशु मेले का आयोजन किया जाता है जिसमें लाखों लोग भाग लेते हैं। वीर तेजाजी को “काला और बाला” का देवता तथा कृषि कार्यों का उपकारक देवता माना जाता है। उनके बहुसंख्यक भक्त जाट जाति के लोग होते हैं। तेजाजी की गौ रक्षक एवं वचनबद्धता की गाथा लोक गीतों एवं लोक नाट्य में राजस्थान के ग्रामीण अंचल में श्रद्धाभाव से गाई व सुनाई जाती है।

तेजाजी के बुजुर्ग उदयराज ने खड़नाल पर कब्जा कर अपनी राजधानी बनाया। खड़नाल परगने में 24 गांव थे। तेजाजी का जन्म खड़नाल के धौल्या गौत्र के जाट कुलपति ताहड़देव के घर में चौदस वार गुरु, शुक्ल माघ सत्रह सौ तीस को हुआ।

*तेजाजी के जन्म के बारे में मत है-*

जाट वीर धौलिया वंश गांव खरनाल के मांय।
आज दिन सुभस भंसे बस्ती फूलां छाय।।
शुभ दिन चौदस वार गुरु, शुक्ल माघ पहचान।
सहस्र एक सौ तीस में प्रकटे अवतारी ज्ञान ।।